व्याकरण की परिभाषा – Vyakaran Ki Paribhasha


 व्याकरण की परिभाषा : दोस्तो आज हम जानेंगे की व्याकरण किसे कहते है? या व्याकरण कि परिभाषा क्या है? यह जानकारी आपके लिए बहुत ही जरूरी साबित हो सकती है| क्योंकि आज की इस पोस्ट में हम आपको हिन्दी व्याकरण विषय के बारे में जानकारी देने जा रहे है जोकि हमारे लिए जानना बहुत ही आवश्यक है.

 व्याकरण की परिभाषा-

Grammar व्याकरण वह विद्या है, जिसके अंतर्गत बोलचाल और साहित्य में प्रयुक्त भाषा के स्वरूप, उसके गठन, अवयवों तथा प्रकारों, उनके पारस्परिक संबंधों और रचनाविधान तथा रूप परिवर्तन का विवेचन किया जाता है।
दूसरे शब्दों में हम कह सकत है कि “व्याकरण वह विद्या है जिसके द्वारा किसी भाषा को शुद्ध बोला, पढ़ा और शुद्ध लिखा जाता है, किसी भी भाषा के लिखने, पढ़ने और बोलने के निश्चित नियम होते हैं, भाषा की शुद्धता व सुंदरता को बनाए रखने के लिए इन नियमों का पालन करना आवश्यक होता है। ये नियम भी व्याकरण के अंतर्गत आते हैं।”
दोस्तों उम्मीद है कि आज का यह पोस्ट व्याकरण की परिभाषा आप सब को जरूर पसंद आयी होगी. इसे आप पाने मित्रो के साथ जरूर शेयर करें.

Leave a Comment