भाषा के कितने रूप होते हैं – Bhasha ke kitne roop hote hain


Bhasha ke kitne roop hote hain – हिंदी व्याकरण में अक्सर यह प्रश्न पूछा आता है की भाषा के कितने रूप होते हैं. दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आप सब को भाषा क्या होता है, और भाषा के रूप के बारे में बताने वाले है. तो चलिए जानते है की भाषा के कितने रूप होते है.

भाषा किसे कहते हैं

‘भाषा’ शब्द संस्कृत के ‘भाष्’ धातु से बना है जिसका अर्थ है बोलना या कहना अर्थात् भाषा वह है जिसे बोला या मुंह कहा जाए.

जब मन के भावो या विचारों को व्यवस्थित तरीके से बोल कर या लिखकर या संकेत के रूप में व्यक्त करते है तो उसे भाषा कहते है. इसके लिये हम वाचिक ध्वनियों का प्रयोग करते हैं.

दूसरे शब्दों में हम कह सकते है की मुख से बोल जाने वाले शब्दों और वाक्यों के समूह जिसके द्वारा व्यक्ति अपने मन की बात बताता है भाषा कहते है.

भाषा के कितने रूप होते हैं – Bhasha ke kitne roop hote hain

भाषा के मुख्यत: तीन रूप होते है

1- मौखिक भाषा

2- लिखित भाषा

3 सांकेतिक भाषा

1. मौखिक भाषा

मौखिक भाषा में कोई भी व्यक्ति भाषा को अपने मुख से बोलकर समझाता है।

उदाहरण: दूरदर्शन, रेडिओ, वीडियो आदि

2. लिखित भाषा

लिखित भाषा में कोई भी व्यक्ति अपने शब्दों को लिखित रूप से समझाने का प्रयास करता है। जैसे पत्र लिखना।

उदाहरण: पत्र लिखना, समाचार पत्र आदि

3. सांकेतिक भाषा

सांकेतिक भाषा में कोई भी व्यक्ति अपने विचारों को सामने वाले को संकेत के रूप में समझने का प्रयास करता है।

उदाहरण: इशारा करना आदि

इसे भी पढ़े

भारत की भाषाएँ

  • जम्मू एवं कश्मीर में कश्मीरी डोगरी और हिन्दी है।
  • हिमाचल प्रदेश में हिन्दी पंजाबी और नेपाली है।
  • हरियाणा में हिन्दी, पंजाबी और हरियाणवी है।
  • पंजाब में पंजाबी व हिन्दी है।
  • उत्तराखण्ड में हिन्दी उर्दू, पंजाबी और नेपाली है।
  • दिल्ली में हिन्दी, पंजाबी, उर्दू और बंगाली है।
  • “उत्तर प्रदेश में हिन्दी व उर्दू है।
  • राजस्थान में हिन्दी, पंजाबी और उर्दू है।
  • मध्य प्रदेश में हिन्दी,मराठी और उर्दू है।
  • पश्चिम बंगाल बंगाली हिन्दी, संताली, उर्दू, नेपाली है।
  • छत्तीसगढ़ में छत्तीसगढ़ी व हिन्दी है।
  • बिहार में हिन्दी, मैथिली और उर्दू हैं।
  • झारखण्डमें हिन्दी, संताली, बंगाली और उर्दू है।
  • सिक्किम में नेपाली, हिन्दी, बंगाली है।
  • अरुणाचल प्रदेश में बंगाली, नेपाली, हिन्दी और असमिया है।
  • नागालैण्ड में बंगाली हिन्दी और नेपाली है।
  • मिजोरम में बंगाली हिन्दी और नेपाली है।
  • असम में असमिया बंगाली, हिन्दी, बोडो और नेपाली है।
  • त्रिपुरा में बंगाली व हिन्दी है।
  • मेघालय में बंगाली, हिन्दी और नेपाली है।
  • मणिपुर में मणिपुरी, नेपाली, हिन्दी और बंगाली है।
  • ओडिशा में ओड़िया हिन्दी, तेलुगु और संताली है।
  • महाराष्ट्र में मराठी, हिन्दी, उर्दू और गुजराती है।
  • गुजरात में गुजराती, हिन्दी, सिन्धी, मराठी और उर्दू है।
  • कर्नाटक में कन्नड़ उर्दू, तेलुगू, मराठी और तमिल है।
  • दमन और दीव में गुजराती हिन्दी और मराठी है।
  • दादरा और नगर हवेली में गुजराती, हिन्दी, कोंकणी और मराठी है।
  • गोवा में कोंकणी मराठी, हिन्दी और कन्नड़ है।
  • आन्ध्र प्रदेश में तेलुगु उर्दू, हिन्दी और तमिल है।
  • केरल में मलयालम है।
  • लक्षद्वीप में मलयालम है।
  • तमिलनाडु में तमिल तेलुगू, कन्नड़ और उर्दू‌ है।
  • पुडुचेरी में तमिल तेलुगू, कन्नड़ और उर्दू है।
  • अण्डमान और निकोबार द्वीप समूह में बंगाली, हिन्दी, तमिल, तेलुगू और मलयालम है।

दोस्तो आज का यह पोस्ट भाषा के कितने रूप होते हैं (Bhasha ke kitne roop hote hain) आप सब को जरूर पसंद आया होगा। इसे आप अपने मित्रो के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करें.

Leave a Comment